संघ ने बताया, शाखाओं में क्यों नहीं आती महिलाएं

0
199

नई दिल्ली. राहुल गांधी की ओर से आरएसएस में महिलाओं की गैर भागीदारी के आरोप का जवाब दिया है. संघ के पदाधिकारियों ने कहा कि आरएसएस की शाखाओं के सुबह 6 बजे ही लगने और कठिन व्यायाम के चलते महिलाओं की इसमें भागीदारी नहीं होती. सुबह जल्दी उठकर शाखा जाना और वहां कठिन व्यायाम करना महिलाओं के लिए सहज नहीं है.

बता दें राहुल गांधी ने हाल के अपने गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान महिलाओं की एक सभा में कहा था कि क्या आपने कभी संघ की शाखाओं में शॉर्ट्स पहने हुई महिलाओं को देखा है. इस सवाल के साथ राहुल ने संघ पर महिलाओं की उपेक्षा करने का आरोप लगाया था.

राहुल के बयान पर संघ के वरिष्ठ लीडर मनमोहन वैद्य ने कहा, ‘यह ऐसा ही है कि कोई पुरुष हॉकी के मैच में पहुंच जाए और वहां महिला हॉकी खिलाड़ियों की तलाश करे.‘ वैद्य ने कहा कि आरएसएएस शाखाओं पर पुरुषों के साथ काम करता है और उनके जरिए परिवारों से भी जुड़ता है. वैद्य ने स्पष्ट किया कि आरएसएस के अन्य सभी संगठनों में महिलाओं की बराबर की भागीदारी है.

वैद्य ने इकनॉमिक टाइम्स से बातचीत में कहा कि महिलाओं की भागीदारी पर हम अकसर बात करते हैं. लेकिन, शारीरिक खेलों और शाखाओं की टाइमिंग के चलते महिलाओं के लिए शाखा में शामिल होना संभव नहीं है. ऐसे में महिलाओं की भागीदारी के लिए संघ का आनुषांगिक संगठन राष्ट्र सेविका समिति काम करता है. सेविका समिति की ओर से प्रतिदिन दोपहर में शाखाओं का आयोजन होता है और कुछ स्थानों में सप्ताह में तीन दिन शाखा लगती है.

RSS Explains Why Women Not Attend Shakhas
Tags: womens in rss, Why Women Not Attend Shakhas, rss sakha, Rashtriya Swayamsevak Sangh, Rashtra Sevika Samiti, Rahul Gandhi, Hindi News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here