ये है लू लगने के लक्षण, ऐसे करें अपना बचाव

0
1707

हैल्थ डेस्क। इस समय उत्तर-पश्चिमी भारत का समूचा इलाका भंयकर गर्मी के चपेट में हैं। गर्मी का सबसे असर कमजोर व्यक्तियों पर होता है। बच्चे और बुजुर्ग इसकी चपेट में ज्यादा आते हैं। मधुमेह, उच्च रक्तचाप और हृदय रोग से पीड़ित व्यक्ति भी गर्मी की चपेट में जल्दी आ जाते हैं ।

लू लगने के लक्षण
किसी व्यक्ति को लू लगी है या नहीं, इसका पता उसके शरीर में हुए परिवर्तनों या लक्षणों को देख कर लगाया जा सकता है। लू लगने से चक्कर आने लगते हैं, श्वास लेने में कठिनाई उत्पन्न होने लगती है, नब्ज की गति बढ़ जाती है, तीव्र सिर दर्द, बदन दर्द और सम्पूर्ण शरीर में कमजोरी का एहसास होने लगता है, मन खराब होने लगता है और उल्टियां भी आ सकती हैं। शरीर में पसीना नहीं आता और त्वचा खुश्क हो जाती है । कई बार लू से पीड़ित व्यक्ति बेहोश हो जाता है।

लू से बचने के लिए कुछ उपाय इस प्रकार है ।

भरपेट भोजन करें
गर्मी के दिनों में भूखे नहीं रहना चाहिए। जब भी घर से बाहर निकलना हो भरपेट भोजन करके निकलना चाहिए ।

भरपूर पानी पीना
गर्मी में पसीना अधिक आता है इसलिए शरीर का पानी अधिक मात्रा में खर्च होता है । अब यदि पानी की आपूर्ति न हो तो शरीर से पसीना निकलना बंद हो जाएगा। पसीना शरीर के तापमान को नियंत्रित कर लू से बचाव करता है। इसी प्रकार शीतल जल एक अमृत पेय है । घर से निकलने से पहले खूब पानी पिएं ताकि शरीर में उसकी कमी न रहे । पानी के अतिरिक्त इस मौसम में शरबत, गन्ने का रस, लस्सी आदि का भी सेवन करना चाहिए। पानी व रेशा प्रधान तरावट देने वाले फलों का सेवन करना चाहिए ।

इमली के बीज
इमली के बीज को पीसकर उसे पानी में घोलकर छानकर और इस पानी में शक्कर मिलाकर पीने से लू से बचा जा सकता है ।

धनिया है फायदेमंद
धनिए को पानी में डालकर रखें फिर मसलकर और छानकर पानी में थोड़ी चीनी मिलाकर पीने से लू से बचा जा सकता है ।

आम का पन्ना
गर्मियों में कच्चे आम का शर्बत या आम का पन्ना पीना चाहिए ऐसा करने से लू से राहत मिलती है ।

प्याज का सेवन
कच्चे प्याज का सेवन करने से भी लू से राहत मिलती है या खाने के साथ कच्चे प्याज का सलाद खाने से भी लू से राहत मिलती है।

कॉटन के कपड़े पहने
धूप में निकलने से पहलें पूरे शरीर को किसी कपड़े से कवर कर लें और दोपहर में सड़कों पर या खुले मैदानों में न घूमें । यदि सड़कों पर पैदल जाना है तो छाता लेकर जाएं । यदि दोपहिया वाहन चलाना हो तो सिर पर हैल्मेट या टोपी पहनें। गर्म हवा के थपेड़ों से बचने के लिए कान को कपड़े से ढंक लें ।

धूप का चश्मा लगाकर निकलें
ग्रीष्मकाल में जब भी घर से बाहर निकलें, आंखों पर धूप का चश्मा लगाकर निकलें, यह धूप से राहत और आंखों को ठंडक देगा। जो लोग एयर कंडीशनर या कूलर के सामने बैठ कर काम करते हैं उन्हें एकदम ठंडे वातावरण से तेज धूप में नहीं निकलना चाहिए क्योंकि इस सर्दी-गर्मी की वजह से भी लू लग सकती है ।

Tags: heat stroke, symptoms, protect, symptoms of heat stroke, garmi ve lu se bachav kaise kare, garmi se kaise bachav kare, lu se bachav ke tarike, lu ke laxan, garmi se bachav ke tarike, heat stroke symptoms, symptoms of heat stroke, how to protect from heat stroke, hindi news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here