फडणवीस एक दिन में तीन बार बोले, उद्धव जी तय करें गठबंधन में रहना है या नहीं

0
139

मुंबई. बीजेपी और शिव सेना गठबंधन एक बार फिर टूट के कगार पर है. शिवसेना के लगातार कटाक्षों के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शुक्रवार को तीन अलग-अलग मौकों पर कहा कि शिव सेना चीफ उद्धव ठाकरे ये तय कर लें कि वे गठबंधन जारी रखना चाहते हैं या नहीं. फडणवीस ने कहा कि शिव सेना का रवैया महाराष्ट्र के लोगों के लिए अच्छा नहीं है. वो हमारे सभी फैसलों का विरोध करते हैं. वे हमें सुझाव दे सकते हैं, पर लगातार एक विपक्षी पार्टी की तरह बर्ताव नहीं कर सकते. जनता सब देख रही है. वो उन्हें स्वीकार नहीं करेगी. कई नेता जो मन कर रहा है बोल रहे हैं.

शिव सेना ने की थी राहुल गांधी की तारीफ
सीएम फडणवीस के इस बयान से एक दिन पहले शिव सेना सांसद संजय राउत ने राहुल गांधी की तारीफ की थी. राउत ने कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी में देश की अगुआई करने की क्षमता है. राहुल आत्मविश्वास से लबरेज हैं. लोग उन्हें सुनने आ रहे हैं. राउत ने कहा, 3 साल पहले तक उनको पप्पू कहा जाता था, लेकिन अब कांग्रेस को उनमें एक लीडर दिख गया है. अब उन्हें पप्पू कहना गलत है. साथ ही राउत ने यह भी कहा था कि देश में मोदी की लहर कम हो गई है. जीएसटी लाने से गुजरात के लोगों में गुस्सा है. दिसंबर में होने वाले विधानसभा चुनावों में बीजेपी को कड़ी चुनौती का सामना करना होगा. दूसरी और मनसे नेता राज ठाकरे ने कहा कि अब बीजेपी को राहुल से डर क्यों लग रहा है.

बीजेपी-एनसीपी में हो सकता है गठबंधन
बीजेपी-शिव सेना गठबंधन यदि टूटा तो फडणवीस को सरकार बनाने के लिए 144 विधायक चाहिए होंगे. जबकि बीजेपी के पास 122 विधायक हैं. एनसीपी के 41 विधायक हैं. दोनों मिलकर सरकार बना सकती हैं. मोदी-शरद पवार के बीच हुई मुलाकातों के दौरान ऐसे कयास लगाए भी गए थे.

तीन साल में बीजेपी शिव सेना से बड़ी हुई
शिव सेना भाजपा के बीच 1989 में गठबंधन हुआ था. 2014 के विधानसभा चुनाव से पहले सीटों के बंटवारे को लेकर ये टूट गया था. बाद में दोनों में दोबारा गठबंधन हो गया. इससे पहले हर बार राज्य में शिव सेना को बीजेपी से लोकसभा और विधानसभा में अधिक सीटें मिलती थीं. 1995 में पहली बार यहां गैर-कांग्रेसी सरकार बनी तो बीजेपी, शिव सेना की सहयोगी थी. परंतु 2014 में सब कुछ बदल गया. 2014 लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 48 में से 23 सीटें मिलीं, जो पिछले चुनाव से 14 अधिक थीं. शिव सेना को सिर्फ 18 सीटें. 2014 विधानसभा चुनाव में भाजपा को 122 और शिव सेना को केवल 63 सीटें मिली.

CM Fadnavis ak din mein 3 baar bole- uddhvji tay karen saath rhnaa hai yaa nahi

Tags: BJP vs Shiv Sena, BJP Shiv Sena alliance,  Maharashtra CM, Devendra Fadnavis, Shiv Sena Chief, Uddhav Thackeray, Hindi News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here