आकाश में दिखाई दिए चंद्रमा के अद्भुत रूप

0
689

नई दिल्ली. बीती रात आकाश में अद्भुत नजारों से भरपूर रही. चंद्रमा के तीन अनोखे और रोमांचक रूप दिखाई दिए. 150 साल बाद बुधवार को दुर्लभ चंद्रग्रहण लगा. ये चंद्रग्रहण इसलिए भी खास रहा क्योंकि इस बार का चंद्रग्रहण तीन रंगों में नजर आया. खगोल शास्त्रियों के मुताबिक महीने में दूसरी पूर्णिमा और चंद्रग्रहण के साथ ब्लू मून के दिखने की घटना 150 साल में पहली बार हुई है. लोगों के बीच इसे लेकर काफी उत्सुकता देखी गई. भारत में ग्रहण शाम 5 बजकर 18 मिनट से 8 बजकर 41 मिनट तक रहा.

ग्रहण के दौरान ‘सुपर ब्लू ब्लड मून’ का अलौकिक दृश्य नजर आया. तीन घंटे 24 मिनट की अवधि वाले चंद्रगहण के दौरान चंद्रमा का तीन विविध रंगो में नजर आना इसकी प्रमुख विशेषता रही.

वैज्ञानिकों के मुताबिक चंद्रग्रहण के दौरान चंद्रमा के सुर्ख लाल हो जाने की प्रक्रिया को ही ब्लड मून नाम दिया गया. उनका कहना है कि जब पृथ्वी सूर्य और चंद्रमा के बीच सीधे गुजरती है और इस दौरान चंद्रमा पृथ्वी के घेरे में आ जाने से कुछ ऐसा ही दिखता है जैसे इसे किसी छतरी से ढंक दिया गया हो. ऐसे समय हालांकि सूर्य की हल्की रोशनी का प्रतिबिम्ब चंद्रमा पर पड़ता है, जिसके कारण यह लाल रंग का नजर आता है.

35 सालों बाद ऐसा बना संयोग
35 सालों बाद ऐसा संयोग बना जब ब्लू मून, ब्लड मून और सुपर मून एक साथ दिखाई दे दिया. भारत में भोपाल, चेन्नई, जयपुर, कोलकाता, भुवनेश्वर समेत दूसरी जगहों पर भी टोटल लूनर एक्लिप्स देखा गया.

भारत के अलावा यह एशिया, रूस, मंगोलिया, जापान, आस्ट्रेलिया, आदि में चंद्रमा के उदय के साथ ही शुरू हुआ. जबकि, नॉर्थ अमेरिका, कनाडा और पनामा के कुछ हिस्सों में चंद्रमा के अस्त होते वक्त दिखाई दिया. वैज्ञानिकों के मुताबिक, ब्लड-ब्लू मून की स्थिति इससे पहले 1982 में बनी थी. अब 31 जनवरी 2037 को भी सुपर ब्लू-ब्लड मून नजर आएगा.

chandra-grahan-2018-super-blood-moon-photos

Tags: chandra grahan 2018, super blood moon, Lunar eclipse, Super Blue Blood Moon, moonlight, Moon three different colors, latest hindi news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here