अमिताभ के विज्ञापन वाला कपूर मिश्रित ‘ठंडा तेल’ फैला रहा है बिमारी

0
14513

नई दिल्लीः मैगी के बाद अभिनेता अमिताभ बच्चन एक ठंडे तेल के विज्ञापन को लेकर विवाद में फंसते दिखाई दे रहे हैं. बीएचयू के इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल सायेंस(आईएमएस) की ओर से केंद्र सरकार को भेजी गई एक रिपोर्ट में सिरदर्द, थकान व अनिद्रा भगाने के नाम पर बाजार में धड़ल्ले से बिक रहे ठंडे तेल को बेहद घातक बताया गया है.

आईएमएस के न्यूरॉलजी विभाग के प्रोफेसर विजय नाथ मिश्र व उनकी टीम कपूर मिश्रित ’ठंडे’ तेल का प्रयोग करने वालों 500 लोगों के केस की स्टडी की गई. करीब दो साल तक चले ऑब्जर्वेशन की रिपोर्ट अब सामने आई है. इस रिपोर्ट में कूल-कूल का अहसास कराने वाले तेल के जरिए फैल रही बीमारियों को ’महामारी’ बताया गया है.

इतना ही नहीं प्रोफेसर विजय नाथ मिश्र ने इस तेल का विज्ञापन करने वाले अमिताभ बच्चन को ट्वीट कर निवेदन किया है कि वह इस तेल का प्रचार न करें.

प्रोफेसर मिश्र ने अमिताभ बच्चन को संबोधित करते हुए लिखा, ’मैं स्वयं आपका फैन हूं और विनती करता हूं कि इन ठंडे तेल वालों का विज्ञापन मत कीजिए. लोग आपको भगवान मानते हैं, आप जो कहेंगे वह लोग मानेंगे. अनुरोध है कि कृपया अनैतिक ठंडे तेल (जिसने कपूर की मात्रा, हानिकारक मात्रा से ज़्यादा हो) उसका प्रचार ना करें.’ प्रोफेसर मिश्र के इस ट्वीट के बाद तमाम और लोगों ने भी इस ट्वीट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए बिग बी से इस विज्ञापन को न करने का अनुरोध किया है.

इस स्टडी से यह बात साफ हो गई है कि ठंडे तेल के लगातार प्रयोग से ब्रेन की नसें कमजोर या फिर शिथिल हो जा रही हैं. ब्रेन पर सीधे असर पड़ने से हाइपर टेंशन, आंखों की रोशनी कम होना और आगे चलकर स्ट्रोक का खतरा बढ़ रहा है. यह स्थिति मौत का कारण बन सकती है. सलाह के बाद जिन मरीजों ने ठंडा तेल लगाना बंद कर दिया उन्हें दवा बगैर ही धीरे-धीरे आराम होने लगा है.

रिपोर्ट के मुताबिक बाजार में सौ से ज्यादा तेल ’कूल-कूल’ के नाम पर बिक रहे हैं. कंपनियां अपना उत्पादन ज्यादा से ज्यादा बेचने के चक्कर में कपूर का इस्तेमाल बेहद ज्यादा मात्रा में कर रही हैं. अमेरिका जैसे देश में कपूर के इस्तेमाल की मात्रा निर्धारित है, लेकिन भारत में अभी ऐसा नियम नहीं बना है. अमेरिका में किसी भी उत्पाद में 11 फीसदी से ज्यादा कूपर के प्रयोग पर बैन है पर भारत में कई सौ गुना कपूर तेल में मिलाया जा रहा है. ठंडे तेल का इस्तेमाल करने से सिरदर्द, चक्कर आना, उल्टी, कम दृष्टि, ब्रेन अटैक, कार्पल टर्नर सिंड्रोम, उच्च रक्तचाप, स्ट्रोक, अन्य विकारों की संभावना रहती है.

Amitabh Bachchan’s advertiser Kapoor mixed ‘cool oil’ is spreading disease

Tags: Amitabh Bachchan, Amitabh Bachchan Cool Iol Add, Amitabh Bachchan cool oil advertiser, diseases, cooling oil, amitabh bachchan oil add, ठंडा तेल, BHU IMS, Vijay Nath Mishra, Neurologist, Hindi News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here